पश्चिमोत्तानासन के फायदे और विधि, Step And Oenefits of Paschimottanasana In Hindi


benefits of paschimottonasan in hindi
keralatourism.org 

आज हम लोग पश्चिमोत्तनासन के बारे में जानते है। यह आसन काफी प्रचलित है लोगो में, यह ऐसा योग आसन है जिसके बारे में सभी लोग करते है। भले इस योग आसन के नाम को नहीं जानते हो।   

पश्चिमोत्तानासन एक प्रमुख योगासन है यह यह हठ योग के 12 योगासन में आता है। यह आसन शरीर के अंदर ऊर्जा का संचार करता  है। योग हमारे जीवन का अभिन्न अंग है जो मन, मस्तिष्क और शरीर को संवृद्ध बनाता है।तो आइये जानते है, पश्चिमोत्तानासन के फायदे बारे में और इसके करने के तरीके, तो आइये देखे। 

पश्चिमोत्तानासन क्या है ? What Is Paschimottanasana Yoga In Hindi -

पश्चिम का मतलब पश्चिम दिशा की ओर और मोत्तान का मतलब 'खिचाव यानि अपनी ओर खींचना, आसन का मतलब मुद्रा। इसलिए इसे पश्चिमोत्तानासन कहते है। 

पश्चिमोत्तनासन करने की विधि | Paschimottanasan Step In Hindi | Paschimottanasan Karane Ke Tarike -

➤किसी खुले स्थान पर चटाई निकाल कर बैठ जाए। 

➤अपने दोनों पैरो को सामने की तरफ फैलाये। 

➤अपने शरीर को सीधा रखे, अपने दोनों हाथो को ऊपर को ओर करे। 

➤साँस लेते हुए अपने शरीर को आगे की तरफ झुकाते हुए दोनों हाथो को नाचे की तरफ यानि पैर की अंगुलियों को पकड़े। 

➤आपके दोनों पैर की अंगुलिया, दोनों हाथो की अंगुलियो से पकड़े। 

➤अपने माथे को घुटने से सटाए और हल्की साँस लेते रहे।  

➤आप चाहे तो दोनों हाथो को एड़ियों के बगल में भी रख सकते है। 

➤कुछ देर तक इसी अवस्था में रहे। 

➤अब आप पुनः प्रारंभिक अवस्था में आ जाये। 

➤इसी क्रिया को अपने अनुसार कर सकते है, जब तक सही महसूस करते है। 

जबरजस्ती करने का प्रयास न करे। 

पश्चिमोत्तानासन के फायदे | Paschimottanasan Ke Fayde | Paschimottanasana Benefits In Hindi -

◾इस योगासन को करने से गुर्दे, लिवर स्वस्थ रहते है। 

◾यह पेट के सभी विकारो के लिए अच्छा योगासन है।

◾यह पेट पर जमी चर्बी को कम करता है। 

◾यह मन को शांत और एकाग्रचित रखने के लिए बढ़िया योगासन है।

◾उच्च रक्त चाप को नियंत्रित करने में मदत करता है।   

◾यह गैस, कब्ज, एसिडिटी, अपच को समाप्त करता है। 

◾इसको करने से रीड़ की हड्डिया मजबूत होती है। 

◾यह स्त्रियों में मासिक धर्म को सही करने में लाभकारी है। 

◾इसको करने से भूख, प्यास, और नींद अच्छी लगती है। 

पश्चिमोत्तानासन में सावधानिया |  Paschimottanasan Me Savdhaniya | Precaution -

इस योगासन को करने से पहले कुछ सावधानिया बरत सकते है। ताकि आपको किसी प्रकार परेशानी न हो। 

अगर आपके पीठ में दर्द की सिकायत हो तो इसे नहीं करना चाहिए। 

कमर, पेट में कोई समस्या हो तो इसे न करे। 

किसी प्रकार के गंभीर बीमारी से पीड़ित हो तो नहीं करना चाहिए। 

इस योगासन को करने में किसी प्रकार की असहजता हो तो इसे नहीं करे। 

आप चाहे तो किसी प्रशिक्षित योगाचार्य के देख रेख में पश्चिमोत्तानासन कर सकते है 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां