डायबिटीज के पहचान कारण उपचार और बचाव , What causes diabetes In Hindi

डायबिटीज के पहचान कारण उपचार और बचाव  What causes diabetes
diabetes care

डायबिटीज आज कल के समय  में सबसे बड़ी समस्या बनकर उभर रही है। इसका मुख्य कारण  गलत आहार विहार का होना जो हमारे शरीर को खोकला करता जा रहा है। खान पान  भी इस  समस्या का मुख्य कारण है जो इस भाग दौड़ भरी जिन्दंगी में सही से नहीं ध्यान दे पाते। इस समय ज्यादा से ज्यादा लोग फ़ास्ट फ़ूड  ,चायनीज फूड, पीजा, बर्गर  का ज्यादा से ज्यादा सेवन कर रहे जो स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी नुकसान दायक है जो हमारे  हेल्थ को दिन प्रतिदिन कमजोर करता जा रहा है इसी के  कारण डायबिटीज  का खतरा बढ़ाता जा रहा है। इसके साथ ज्यादा तला  भुजा भी खाना हमारे स्वास्थ्य के लिए नुकसान दायक है इन सभी वजह से डायबिटीज के मरीजों के संख्या में इजाफा हो रहा है।

जहा तक डायबिटीज का सवाल है तो वर्ल्ड  हेल्थ आर्गेनाईजेशन के रिपोर्ट के अनुसार  सन 2030 तक 98 भारतीय  यानी 9.8 करोड़ लोग   (Type 2  Diabetes ) से प्रभावित हो सकते है इसके हिसाब से देखा जाय तो आने वाले समय में मधुमेह हमारे लिए बहुत बड़ी समस्या बनकर उभर रहा है डायबिटीज के वजह से हार्ट और नर्वस सिस्टम पर काफी बूरा असर पड़ता  है  इसके वजह से हृदय रोग का खतरा कई गुना ज्यादा बड़ जाता है.


इसका असर हमारे प्रतिरक्षा प्रणाली पर भी पड़ता है अगर पुर दुनिया में देखा जाय तो डायबिटीज के रोगियों की संख्या बहुत ही तेजी से बढ़ रही है और आने वाले समय में भयावक  होती जा रही है।

डायबिटीज के पहचान कारण उपचार और बचाव  What causes diabetes


डायबिटीज होने के मुख्य कारण -

सबसे पहले जानते है कि डायबिटीज है  क्या और क्यों होता है इसका जबाब है जब खून में ग्लूकोज की मात्रा सामान्य से अधिक हो जाती है तो इसी को डायबिटीज कहते है  जब बॉडी में( Pancreas )में Insulin की मात्रा का स्त्राव  कम होने लगता है। जिसके कारण रक्त में शुगर की मात्रा बढ़ने लगती है जिसके वजह से डायबिटीज हो जाता है इंसुलीन एक प्रकार का हार्मोन होता है जो शरीर में शुगर की मात्रा को कंट्रोल नहीं कर पाता।
इसका असर ह्रदय ,किडनी ,मस्तिष्क और पुरे नर्वस सिस्टम पर पड़ता है।


डायबिटीज के लक्षण या मधुमेह के लक्षण  Symptoms of  diabetes -

  • हाथ पैर में झनझनाहट होना और खुजली जैसा महसूस होना 
  • मरीज को बार-बार पेशाब या कम अंतराल पर पेशाब का होना
  • आँखों की रोशनी पर असर पड़ना
  • ह्रदय गति का अनियमित हो जाना
  • फोड़े फुंसी और घाव  जख्म जल्दी नहीं भरता
  • थोड़ी सी टेंशन लेने पर चक्कर का आ जाना
  • हाथ पैर और हड्डियों में कमजोरी होना
  • भूख प्यास  का ज्यादा लगना
  • रक्त संचार का सही से कार्य न कर पाना
  • शरीर के  प्रतिरोधक क्षमता में कमी आने लगती है जिसके वजह से शरीर में थकान जल्दी महसूस होने लगती है और मरीज अपने आपको हमेशा थका हुआ महसूस करता है।

डायबिटीज होने के प्रमुख कारण -

डायबिटीज के पहचान कारण उपचार और बचाव  What causes diabetes
stetoscope

1 - ज्यादा शारीरिक श्रम करने से बचना भी इसका प्रमुख कारण है आज कल लोग ज्यादा ऑफिसियल वर्क करते है जिसके वजह से शारीरिक श्रम कम होता है इसका भी  मुख्य कारण है

 2 - ज्यादा से ज्यादा फ़ास्ट फूड का सेवन करना और तली भुजी चीजों का अधिक मात्रा में सेवन करना यह स्वास्थ्य के अनुसार सही नहीं है  यह भी  एक कारण है।

3 - यह genetic यानि अनुवांशिक कारण से भी होता हैअगर  परिवार में पहले किसी को हुआ होगा तो आप  में भी होने का संभावना होता है

4 - ज्यादा मानसिक तनाव लेने या डिप्रेशन के वजह से भी दिक्कत हो सकती है इसलिए ज्यादा तनाव से बचना चाहिए और हमेशा खुश रहना चाहिए ताकि किसी भी तरह की समस्या से बचा जा सके।

5 - अत्यधिक चाय ,काफी , कोलड्रिंक्स ,स्वीट्स खाने की वजह भी है जोकि  डायबिटीज का प्रमुख कारण है इन सभी चीजों का सेवन कम से कम करना चाहिए।

6 - ज्यादा नशा का सेवन करना जैसे कि- सिगरेट ,तम्बाकु ,शराब  इसका अत्यधिक सेवन करना भी एक प्रमुख कारण  है इसलिए नसा  के सेवन से भी बचना चाहिए ताकि स्वस्थ जीवन जी सके।

स्वस्थ जीवन जीने के सबसे आसान तरीके 

डायबिटीज में सावधानियाँ -

शुगर के मरीज को नियमित अंतराल पर जाँच करानी चाहिए अन्यथा यह आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है क्योकि रक्त में ग्लूकोज़ की मात्रा अधिक हो जाने पर गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते है।

डायबिटीज मरीजों को नियमित अंतराल पर ब्लड  प्रेशर चेक करवाते रहना चाहिए। क्योकि डायबिटीज में ब्लड प्रेसर बढ़ने  का ख़तरा ज्यादा रहता है

ब्लड प्रेसर के मरीजों को कोलेस्ट्रॉल का भी चेक अप करवाना चाहिए क्योकि डायबिटीज में  बैड कोलेस्ट्रॉल बढ़ने  का चांस ज्यादा होता है जोकि रक्त प्रवाह को धीमा कर सकता है जिसके वजह से हार्ट पर असर पड़ता है।

जब रक्त में ग्लूकोज की मात्रा काफी लम्बे समय तक बनी रहती है तो इसका सीधा असर आंख की रेटिना पर पड़ता है जिसके वजह से आंख में धुँधला दिखाई पड़ने लगता है और आंख की रोशनी कम हो जाती है इसलिए आंख के डॉक्टर को समय-समय पर दिखाना चाहिए।


डायबिटीज में बचाव कैसे करे -

डायबिटीज के मरीजों को ज्यादा से ज्यादा टहलना चाहिए और शारीरिक परिश्रम करना चाहिए जोकि मधुमेह के मरीजों के लिए अत्यंत आवश्यक है इससे आपका शुगर लेवल कंट्रोल रहेगा एवं शारीरिक रूप से फिट रहेंगे।

शुगर के मरीज को ज्यादा तला और मसाले वाली चींजो से दूर रहे व् अधिक से अधिक हरी पत्ते दार सब्जियों ,ताजे फल ,डेयरी प्रोडक्ट ,सब्जियों में करेला ,भिंडी ,परवल  और फलो में जामुन ,आवला का सेवन कर सकते है जिससे आपके शुगर लेवल को कंट्रोल रखा जा सके।

यह ऐसी बीमारी है जिसको ज्यादा से ज्यादा सावधानी रख कर कंट्रोल में रखा जा सकता है क्योकि इसका यही उपाय है कि जितने नियम सयम से आहार विहार का पालन करेंगे उतना ही  इस बीमारी से सुरक्षित रह सकते है।  यह जड़ से कभी ख़त्म नहीं होती इसलिए इसका उचित केयर करके पुरा जीवन आसानी से जी सकते है।

 डायबिटीज के मरीजों को पानी का भरपुर सेवन करना चाहिए जिससे शरीर में पानी की मात्रा सही बनी रहे और पेशाब के रास्ते शुगर की मात्रा भी निकलती रहे।

शुगर के मरीजों को ज्यादा मानसिक तनाव से भी बचना चाहिए ताकि ब्लड प्रेसर यानी उच्च रक्त चाप से बचा जा सके अन्यथा जिसका सीधा  असर हमारे ह्रदय और किडनी पर पड़ता है इसलिए हमेसा खुश रहे।ताकि किसी भी तरह की आने वाली समस्या से दूर रहे।

डायबिटीज के घरेलु उपाय -    

डायबिटीज के पहचान कारण उपचार और बचाव  What causes diabetes
fress vegetables and salad

डायबिटीज के लिए बहुत से ऐसे घरेलु उपाय है जिसको आप कर सकते है जिससे आपका शुगर लेवल आसानी से कम हो सकता है अगर आप इसे नियमित रूप से इस्तेमाल करते है तो आपके लिए बहुत ही फायदेमंद होगा।

करेला के रस का सेवन करने से शुगर का लेवल कंट्रोल होता है सर्व प्रथम करेले का रस 50 से 100 ग्राम निकाले और उसमे उतना ही पानी मिला दे फिर उसका सेवन करे इससे आपको लाभ मिलेगा। सुबह और साम इसको  पी सकते है नियमित रूप से सेवन करने से अवश्य लाभ मिलेगा। 

जामुन का रस मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत ही फायदेमंद है इसके अलावा जामुन की गुठली का चूर्ण बनाकर 2 से 3 चमच्च सुबह और साम सेवन करने से लाभ मिलेगा। इसका नियमित रूप से इस्तेमाल डायबिटीज रोगियों के लिए लाभ दायक है। 

डायबिटीज के रोगियों के लिए मेथी बहुत ही फायदेमंद होता है अगर प्रतिदिन एक से 2 चमच्च मेथी चूर्ण का इस्तेमाल करे तो शुगर रोगियों के लिए लाभदायक है इससे मधुमेह में ग्लूकोज़ का लेवल कम होता है 

आवला  का रस और केरेले का रस दोनों को मिलाकर पीने से भी शुगर के  रोगियों को  लाभ मिलता है इससे शुगर के लेवल को कंट्रोल रखा जा सकता है।

दालचीनी का इस्तेमाल भी शुगर के मरीजों के लिए फायदेमंद है इससे ग्लूकोज़ का  लेवल  कम करने में मदत मिलती है यह इम्युनिटी सिस्टम को भी मजबूत बनाने में मदत करता है। इसका सेवन करना चाहिए।

मधुमेह रोगियों के लिए हल्दी एक बहुत ही अच्छा घरेलु औषधि है जोकि किसी के घर पर  आसानी से मिल जाता है इसमें ऐसे गुण मौजूद होते है जो रक्त में ग्लूकोज़  लेवल को कम करने में मदत करते  है  इसलिए डायबिटीज के मरीज इसका इस्तेमाल कर सकते है। 

नीम का सेवन डायबिटीज के रोगियों के लिए बहुत ही फायदेमंद है जिसके इस्तेमाल से ब्लड में मौजूद सक्कर की मात्रा काम हो जाती है वैसे भी नीम का हमारे शास्त्रों  उचित  स्थान दिया गया है यह रक्त के संचार को भी सामान्य बनाये रखने में मदत करता है इसलिए नीम का डायबिटीज में सेवन बहुत ही ज्यादा गुण कारी है। 

शुगर को कंट्रोल करने के लिए त्रिफला चूर्ण का भी इस्तेमाल कर सकते है जोकि बहुत ही लाभदायक है यह पेट सम्बंधित विकारो के साथ-साथ डायबिटीज मरीजों के लिए भी फायदेमंद है यह इन्सुलीन के स्राव को बड़ा देता है जिससे शुगर आसानी से कंट्रोल हो जाता है उसके आलावा डाक्टर से भी सलाह ले सकते है। 


अन्य आर्टिकल पढ़े -


नोट - यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो इसको शेयर जरूर करिए ये आप लोगो आग्रह है अगर कोई कमी होतो बतायें उस कमी को दूर करने की कोशिस करूंगा।




टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां