Happiness For Life In Hindi, Khush rahana jeevan ke liye jaroori

Happiness For Life In Hindi, Khush rahana jeevan ke liye jaroori

Khush rahana jeevan ke liye jaroori

खुश रहना जीवन के लिए जरूरी -        

अगर हम अपने जीवन में खुश नहीं रहते तो हमारी जिंदगी नीरस नजर आती है। खुश रहने से हमें ऊर्जा मिलती है जो हमें आगे लेकर जाती है अगर खुश रहते है तो हम किसी काम को अच्छे से करते है खुशी हमें सकारात्मकता की ओर लेकर जाती है। कभी ऐसा लगता है कि मै  कुछ नहीं कर पाउँगा, उस वक्त मन बहुत ही निरास हो जाता है। 
अंदर से मन दुःखी या अशांति महसूस करने  लगता है। उस वक्त हमें अपने पुरानी बातों को याद करना चाहिए और उस पुरानी बातो में से उस बात को याद करना चाहिए जो हमें खुशी दे सके,जो हमें खुश रखे सके, उस बातो  को याद करके हमें जीवन में खुशी लानी चाहिए।हमारे जीवन में बहुत सारी ऐसी बाते है जब उनके बारे में सोचते है तो हमें खुशी महसूस  होती है जो हमें अंदर से संतुष्टि का एहसास कराती है। जब हम अंदर से  खुश महसूस करते है ,तब हमें हर चीजे अच्छी लगती है। हमें हमेसा अच्छी बातो को ध्यान में रख कर जीवन में आगे बढ़ाना चाहिए ,अगर जीवन में  किसी भी चीज को लेकर तकलीफ हो तो कुछ समय के लिए उस चीज को मन से  निकाल देना चाहिए। और उस क्षण को याद करना चाहिए।
 जिस क्षण आपको ज्यादा खुशी  मिली हो। जब उस खुशी वाले क्षण को याद करते है उसी वक्त सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है, जिसको हम सब महसुस करते है। जब हम कोई कार्य करने जाते है अक्सर हमे यह महसूस होता है कि यह सही है या गलत ।जब वह सही होता है तो हमे ख़ुशी महसूस होती है। वह खुशी हमे ताकत प्रदान करती है, और हमारे पूरे दिमाग को ऊर्जा प्रदान करती है वह ऊर्जा जो हमे महसूस होती है वहीं हमारे लिए खुशी देती है। 
वह ऊर्जा हमारे मन प्रसन्नचित्त कर देती है यही क्षण हमारे लिए ख़ुशी का छन होता है। 
जब हम दुखी होते है तो इसी छन को याद करना चाहिए जिससे हमे सकारात्मक ऊर्जा मिल सके और हम खुश रह सके।
अगर जीवन जीना है तो खुश रहना पड़ेगा किसी भी हालात में खुशी अपने जिंदगी में महसूस करना होगा ।
दिमाग में असंतोष का भाव होने पर भी खुश रहना होगा, यह ख़ुशी तभी मिलेगी जब अपने जीवन की बीती हुई अच्छी बातो को याद किया जाय।

अच्छी बातो को याद करने से दिमाग की सारी फालतू बाते नष्ट हो जाती है और हृदय में प्रसन्नता महसूस होती है।
ख़ुशी जीवन जीने का सुन्दर एहसास दिलाती है जिसके वजह से आप जिन्दंगी का पूरा आनंद ले सकते है जीवन के हर पल को आप महसूस कर सकते है।
जिंदगी को महसूस करके जीना और उसका आनन्द लेना ही खुशी है। खुश रहने से हमें वैसे ही तागत मिलती  जैसे कि अँधेरे से उजाले की तरफ देखने से आखो की अनुभूति ।
जब आप खुश रह कर जीवन जीते है तो आप को जीवन से संतुष्टि का एहसास होता है जो आपके लिए ऊर्जा का कार्य करता है इसलिए जीवन में खुश रहना बहुत ही जरूरी है। जो हम महसूस करते है वही हमारे साथ होता है अगर हम अच्छा महसूस करेंगे तो अच्छा होगा और बुरा महसूस करेंगे तो बूरा होगा, यह इंसान के ऊपर है कि वह कैसा महसूस करता है।
जो कुछ महसूस करते है उसका प्रतिबिंब हमारे मष्तिक में बैठ जाता है वही हमें करने के लिए विवश करता है और वही हमारे साथ होता है। जिस चीज के बारे में सोचते है वह हमारे विचारो से कहती है यह हमारे लिए सही है वाकई में इंसान वही करता है चाहे वह अच्छा हो या बुरा, अगर अच्छा है तो हमारे लिए सही हो जाता है और बुरा हो तो, हमारे लिए काफी दुःखी होता है जो हमारे जीवन के लिए बुरा एहसास देता है।

बुरे विचारो को जीवन में नहीं आने देना चाहिए क्योकि जो हमारे लिए दुःख का कारण हो उसको जीवन में रखने से क्या फायदा, जब इंसान खुश रहता है तो उसके अंदर अच्छे विचार मन में आते रहते है जो हमारे लिए काफी अच्छा है उस अच्छे विचारो के वजह से जीवन में बहुत कुछ कर सकते है।
खुश रहना या न रहना यह आपके उपर डिपेंड करता है अगर आप चाहते है खुश रहना तो खुश रह सकते है, और यदि नहीं चाहते तो नहीं रह सकते है यह आपकी चॉइस है।
अब आप पूछेंगे कैसे ?

मान लीजिये किसी की बातो से आपको ठेस पंहुचा हो जिसके वजह से आप का मन दुःखी हो और आपको बहुत ही ज्यादा बूरा लगा हो, क्या इन बातो को सोचकर और इसको दिल में रखकर आपका भला हो जायेगा या वह बाते जिसके वजह से आपको ठेस पहुंची हो उन बातो को सोचकर आपका कुछ बुरा हो जायेगा।
ऐसा कुछ नहीं होगा वह आपका कुछ भी बर्बाद नहीं कर सकती।
जब वह कुछ बर्बाद नहीं कर सकती तो किस बात के लिए दुःखी है यह सोचकर देखे आपको स्वयं से उत्तर मिल जायेगा।
खुशी इंसान के जीवन में हमेशा होना चाहिये तभी जीवन की गाड़ी को आसानी से चलाया जा सकता है, अगर ख़ुशी का अनुभव करना छोड़ दिया तो जीवन में मुश्किलें खड़ी हो जाएगी, जिंदगी मानो रूक सी जाएगी इसलिए आपके साथ जैसा भी वक्त चल रहा हो लेकिन एक चीज हमेसा साथ होनी चाहिए वह है मन की खुशी।

यह हमारे साथ स्वास्थ्य के लिए भी जरूरी है जब हम अंदर से खुश और प्रसन्नचित महसूस करते है जिससे सकारात्मक एनर्जी पैदा होती है जो इंद्रियों और पूरे शरीर पर अच्छा प्रभाव छोड़ती है जिसके वजह स्वास्थ्य भी सही रहता है।

जब भी आपको लगे की अच्छा महसूस नहीं कर रहे है तो आप खुद से पूछिए कि क्या कारण है, ऐसा क्यों महसूस हो रहा है, अंत पाएंगे बेवजह बेवजह ऐसा हो रहा है। एक बात मान लीजिए अच्छा और बूरा लगना खुद के ऊपर डिपेंड है ये मानकर चलिए किसी भी सिचुएशन में दिल से खुश रहना है और रहेंगे।
कुछ दिन तक प्रॉब्लम होगा लेकिन धीरे-धीरे आपके साथ होने लगेगा।     
यह बहुत लोगो के साथ होता है ऐसा नहीं कि कुछ लोगो के साथ, इसके लिए आप ध्यान, योग, और जो चीजे आपको अच्छी लगे उसको करना चाहिए।  आजकल के समय में व्यस्तता के चलते ख़ुशी को तलाशना मुश्किल हो गया है इसलिए सुबह के समय में योगासन कर सकते है।  ध्यान प्रतिदिन लगाए इससे आपका मन प्रसन्न रहेगा, ध्यान करने से मन को शांति भी मिलती है जो पूरे दिन हमें तरोताजा रखती है।
इसके आलावा उन चीजों को करिये जो आपको पसंद हो ताकि अच्छा महसूस हो। अपने पसंद का म्यूजिक भी सुन सकते है ताकि आपका मूड अच्छा रहे, आपस में बाते करे, हँसी मजाक करे ताकि आपको अंदर से एक एनर्जी मिले जो स्वयं कोख़ुश रख सके।

 खुश रहने से मन में अच्छे विचार आते है जो हमारे जीवन को हमेशा बदलने का प्रयास करते है विचार ही वह नीव है जहा से खड़े होकर सपने देखते है और उसको पूरा करने की कोशिश करते है और पूरा भी करते है। यह सब हमें खुश रहने से मिलता है तो आज से यह ठान लीजिये कि हमेशा खुश रहेंगे