सचिन तेंदुलकर की बायोग्राफी
सचिन तेंदुलकर 

सचिन की जीवनी 


दोस्तों मै आपको सचिन तेंदुलकर के जीवन के कुछ अनसुनी बातो से अवगत कराऊंगा। मै आपको एक ऐसे प्लेयर के बारे में बताने जा रहा हूँ , जिसने इंडियन क्रिकेट के इतिहास को ही बदल दिया। भारत ही नहीं दुनिया के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के बारे में जानकारियां। 

  
सचिन तेंदुलकर का जन्म 24 अप्रैल 1973 को निर्मल नर्सिंग होम दादर मुंबई में हुआ था। उनके पिता का नाम रमेश तेंदुलकर था ,उनके पिता एक लेखक और प्रोफेशर थे और उनकी माता का नाम रजनी था जो की एक insurance industry में कार्य करती थी। सचिन तेंदुलकर के दो बड़े भाई(नितिन और अजित ) और एक बड़ी बहन (सविता ) है। उनकी पत्नी का नाम अंजलि तेंदुलकर है जो की एक डॉक्टर है।
सचिन तेंदुलकर को बचपन से ही क्रिकेट का बहुत शौक था ,और वह कम उम्र में ही क्रिकेट के लिए जूनून रखते थे, तेंदुलकर ने अपने प्रारंभिक वर्षों को बांद्रा (पूर्व) में साहित्य सहज सहकारी हाउसिंग सोसाइटी में बिताया।और साथ ही साथ उनको टेनिस खेलना भी पसंद था। सचिन की क्रिकेट में रूचि देखकर के उनके बड़े भाई अजित तेंदुलकर ने उन्हें रमाकांत आचेरकर से मिलवाया जो जोकि एक प्रसिद्ध क्रिकेट कोच थे उनका क्रिकेट क्लब शिवाजी पार्क ,दादर में था।आचरेकर तेंदुलकर की प्रतिभा से प्रभावित थे और उन्होंने सचिन तेंदुलकर को अपनी स्कूली शिक्षा को शरदश्रम विद्यामंदिर (अंग्रेजी) हाई स्कूल में स्थानांतरित करने की सलाह दी।
वह  सचिन तेंदुलकर को प्रतिदिन सुबह और शाम शिवाजीपार्क में उनको क्रिकेट का प्रशिक्षण देते थे। और अपने सानिध्य में क्रिकेट की बारीकियां बताते थे। 
रमाकांत आचरेकर ने सचिन के प्रतिभा को निखारने के लिए सचिन तेंदुलकर को एक सिक्का प्रतिदिन देते थे ,वो ऐसा था की सचिन को कोई आउट नहीं कर पाता था तो वह कहते थे की सचिन को जो आउट करेगा उसको एक रूपये का सिक्का मिलेगा लेकिन सचिन को कोई आउट नहीं कर पाता  और अंत में सचिन आउट नहीं होते और सिक्का खुद लेकर जाते। 
सचिन उस चीज को याद करके आज भी कहते है कि उस समय आचेरकर सर द्वारा दिये गए सिक्के मैंने संभाल कर रखे है।
सचिन तेंदुलकर प्रतिवर्ष 200 बच्चो के पालन पोषण के लिए अपनालय नाम का संगठन भी  चलाते है।

क्रिकेट से जुडी सचिन की कुछ झलकियां -

  1. पूर्वकप्तान मोहम्मद अजिहुरुदीन ने सचिन तेंदुलकर को ओपनर बल्लेबाज के रूप में भेजने की शुरुवात की थी। जिसमे सचिन तेंदुलकर काफी सफल रहे। ओपनर बल्लेबाज के तौर पर ही उन्होंने सारे रिकार्ड्स बनाये। 
  2. सचिन ने एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बनाये। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया  के खिलाफ 60  मैच में 3000 से ज्यादा रन बनाये।  जिसमें 9 शतक और 15 अर्धशतक शामिल हैं। श्रीलंका के खिलाफ भी उन्होंने 7 शतक और 14 अर्धशतक की मदद से 2471 रन बनाये लेकिन इसके लिये उन्होंने 66  मैच खेले।और इन दोनों टीमों के खिलाफ काफी सफल रहे। 
  3. सचिन तेंदुलकर ने पाकिस्तान के खिलाफ 66 मैच में 2381 रन बनाये। इसके अलावा उन्होंने साउथ अफ्रीका के खिलाफ 1655 रन बनाये। 
  4. सचिन तेंदुलकर ने एकदिवसीय क्रिकेट में 442 मैच में 200 रन बनाकर इतिहास रचा ,जो की इंटरनेशनल क्रिकेट में पहला दोहरा सतक था। जो अपने आप में बहुत बड़ी उपलब्धि थी। 
  5. सचिन तेंदुलकर ने इंटरनेशनल क्रिकेट में 30000 रन बनाने वाले दुनिया के इकलौते बल्लेबाज है100 सतक मारने का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी सचिन के नाम है। जो की दोनों प्रारूपों में टेस्ट और वनडे शामिल है.
  6. 23 दिसम्बर 2012 को सचिन ने इकदिवसीय क्रिकेट से सन्यास लेने की घोषणा की 
  7. भारत सरकार ने उनको देश  के सबसे बड़े नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया। 
  8. 16 नवम्बर 2013 को वेस्टइंडीज के साथ खेले गए मैच में 74 रनो की पारी खेली ,और  टेस्ट क्रिक्रेट से भी सन्यास ले लिया 

sachin tendulkar records in hindi 

  1. सबसे ज्यादा अन्तराष्ट्रीय मैच खेलने वाले दुनिया के महान बल्लेबाज है। 
  2.  एकदिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय में 49 सतक लगाने का कीर्तिमान 
  3. टेस्ट क्रिकेट में 51  सतक  लगाने का कीर्तिमान उनके नाम है 
  4. टेस्ट क्रिकेट में 13000 रन बनाने वाले विश्व के पहले बल्लेबाज है 
  5. अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय मुकाबले में सबसे ज्यादा मैन ऑफ दी मैच का कीर्तिमान 
  6. अंतर्राष्ट्रीय वर्ल्डकप मुकाबले में सबसे ज्यादा रन का कीर्तिमान 
  7. अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय में 18000 रन बनाने का कीर्तिमान 
  8. टेस्ट क्रिकेट  सबसे ज्यादा रन भी सचिन के नाम है  

राष्ट्रीय सम्मान 

  1. 1994 में उन्हें भारत  सरकार द्वारा  अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 
  2. 1998 में राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार  सम्मानित किया गया। 
  3. 1999 में उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया। 
  4. 2008 में पद्मा विभूसन से  सम्मानित किया गया,जो की भारत  का दूसरा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार है। 
  5. 2014 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया ,जो की भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार है। 
क्रिकेट सम्बंधित पुरस्कार
  1. 1997 में उन्हें विज्डन क्रिकेटर घोसित किया गया। 
  2. 2010 में उन्हें विज़डन लीडिंग क्रिकेटर ऑफ द ईयर से सम्मानित किया गया, वर्ष के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर के लिए आईसीसी पुरस्कार, सर गारफील्ड सोबर्स ट्राफी भी उन्हें मिली।
  3.  2010 में उन्हें भारतीय वायु सेना द्वारा मानद ग्रुप कैप्टन की उपाधि मिली।
  4. 2012 में सिडनी क्रिकेट ग्राउंड की आजीवन सदस्यता मिली जो की आस्ट्रेलिया क्रिकेट के द्वारा यह सम्मान दिया गया। 

सचिन के विचार 

  1. सचिन तेंदुलकर अपनी तुलना किसी से करना पसंद  नहीं करते थे क्योकि उनका मानना है कि अपनी तुलना स्वयं  से करनी चाहिए। 
  2. जब वह क्रिकेट खेलते  थे तो  वह किसी और बात पे ध्यान नहीं देते थे सिर्फ और सिर्फ गेंद पर ध्यान देते थे। 
  3. वह बहुत ही सालीन स्वाभाव के थे। 
  4. वह क्रिकेट को खेलने के साथ ही क्रिकेट को जीते थे। 
  5. वह अपने आलोचको पर और प्रतिद्वंदियों के बातो पर ध्यान नहीं देते थे क्यों की उनका मानना था की इससे खुद का ध्यान प्रभावित होता है। 
  6. वह किसी बात का उत्तर सिर्फ और सिर्फ अपने खेल से देना चाहते थे।